आदि शंकराचार्य जयंती पर पुरीपीठाधीश्वर का दिव्यतम संदेश

11779

भुवन वर्मा, बिलासपुर 27 अप्रैल 2020

जगन्नाथपुरी — योग से ही भगवत् पाद आदि शंकराचार्य ने भारतवर्ष में चार पीठों की स्थापना की। ईसा से 507 वर्ष पहले भारत में आदि शंकराचार्य का आविर्भाव (जन्म) हुआ था। वस्तु स्थिति यह है कि हमारे सामने अकाट्य प्रमाण है, जिसके सामने सारे तर्क निष्फल हैं, कि जब आदि शंकराचार्य का आविर्भाव भारत में हुआ था तब इस्लाम और ईसाई दोनों पंथ और मत का कोई अस्तित्व नहीं था। आज धरती पर जो भी भू-भाग है, वो उस समय सनातन संस्कृति से आच्छादित हो चुका था। पूरे विश्व की राजधानी भारत को स्थापित करते हुये आदि शंकराचार्य ने चारधाम पीठों की स्थापना की।उन्होंने भले ही भारत के चार कोनों में शंकराचार्य पीठों की स्थापना की हो लेकिन सनातन धर्म के शासन का क्षेत्र पूरे विश्व को ही माना। बौद्ध सम्राट सुधन्वा जो कि युधिष्ठिर की वंश परंपरा के थे, बौद्ध पंडितों और भिक्षुकों के संपर्क में आकर वे बौद्ध सम्राट के रुप में ख्याति प्राप्त होकर वे शासन कर रहे थे। सनातन वैदिक आर्य हिंदु धर्म का दमन कर रहे थे तब आदि शंकराचार्य ने उनके हृदय को शुद्ध किया और सार्वभौमिक सनातन हिंदु धर्म मूर्ति के रूप में उन्हें फिर प्रतिष्ठित किया। उन्हें पथभ्रष्ट होने और अन्य राजाओं पर भी शासन करने के लिये आदि शंकराचार्य ने चार दिशाओं पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण में चार धाम पीठों की स्थापना की। इसमें से पूर्व और पश्चिम की जो पीठें हैं वे समुद्र के तट पर हैं।भौगोलिक दृष्टि से भगवान शंकराचार्य ने बद्रीनाथ में ज्योतिर्मठ की स्थापना की जो पर्वत माला के बीच में है।

रामेश्वर के श्रंगेरी क्षेत्र जो इस समय कर्नाटक में है, वहां उन्होंने मठ की स्थापना की। उत्तर-दक्षिण के मठ पर्वत माला के बीच हैं और पूर्व-पश्चिम के मठ समुद्र किनारे। चारों वेद और छह प्रकार के शास्त्र या कह सकते हैं 32 प्रकार की विद्याओं के प्रभेद और 32 कलाओं के प्रभेद, सबके सब सुरक्षित रहें, इसलिए एक-एक वेद से संबद्ध करके एक-एक शंकराचार्य पीठ की स्थापना की। जैसे ऋग्वेद से गोवर्धन पुरी मठ (जगन्नाथ पुरी), यजुर्वेद से श्रृंगेरी (रामेश्वरम्), सामवेद से शारदा मठ (द्वारिका) और अथर्ववेद से संबध्द ज्योतिर्मठ (बद्रीनाथ) है। ब्रह्मा के चार मुख हैं, पूर्व के मुख से ऋग्वेद. दक्षिण से यजुर्वेद की, पश्चिम से सामवेद और उत्तर से अथर्ववेद की उत्पत्ति हुई है। इसी आधार पर शंकराचार्य ने चार पीठों की स्थापना की और उनको चार वेदों से जोड़ा है।सन्यासी अखाड़े और परंपरा तो भारत में पहले भी थी, लेकिन आदि शंकराचार्य ने इन दशनामी संन्यासी अखाड़ों को भौगोलिक आधार पर विभाजित किया। दशनामी अखाड़े जिनमें सन्यासियों के नाम के पीछे लगने वाले शब्द से उनकी पहचान होती है। वन, अरण्य, पुरी, भारती, सरस्वती, गिरि, पर्वत, तीर्थ, सागर और आश्रम, ये दशनामी अखाड़ों के संन्यासियों के दस प्रकार हैं। आदि शंकराचार्य ने इनके नाम के मुताबिक ही इन्हें अलग-अलग दायित्व सौंपे। जैसे, वन और अरण्य नाम के संन्यासियों को, जो पुरी पीठ से संबद्ध है, इन्हें आदि शंकराचार्य ने ये दायित्व दिया कि हमारे वन (बड़े जंगल) और अरण्य (छोटे जंगल) सुरक्षित रहें, वनवासी भी सुरक्षित रहें, इनमें विधर्मियों की दाल ना गले। पुरी, भारती और सरस्वती ये श्रृंगेरी मठ से जुड़े हैं, सरस्वती सन्यासियों का दायित्व है हमारे प्राचीन उच्च कोटि के शिक्षा केंद्र, अध्ययन केंद्र सुरक्षित रहें, इनमें अध्यात्म और धर्म की शिक्षा होती रहे। भारती सन्यासियों का दायित्व ये है कि मध्यम कोटि के शिक्षा केंद्र सुरक्षित रहें, यहां विधर्मियों का आतंक ना हो। पुरी सन्यासियों का दायित्व तय किया कि हमारी प्राचीन आठ पुरियों जैसे अयोध्या, मथुरा और जगन्नाथपुरी आदि सुरक्षित रहें। तीर्थ और आश्रम नाम के संन्यासी जो द्वारिका मठ से सम्बद्ध हैं, तीर्थ सन्यासियों का दायित्व तीर्थों को सुरक्षित रखना और आश्रम सन्यासियों का काम हमारे प्राचीन आश्रमों की रक्षा करना था। कुछ सालों पहले समुद्र के रास्ते से कुछ आतंकियों ने भारत वर्ष में घुसकर आतंक मचाया था। ये आदि शंकराचार्य की दूरदर्शिता ही थी कि उन्होंने ज्योतिर्मठ (बद्रीनाथ) से सम्बद्ध सागर सन्यासियों को समुद्र सीमाओं की रक्षा का दायित्व दिया था। सेतु समुद्रम के कारण हमें ईंधन प्राप्त हो रहा है, इसी से समुद्र का संतुलन है, राम सेतु के टूटने से रामेश्वर का ज्योतिर्लिंग भी डूब जाएगा।

यूपीए सरकार के समय इसे तोड़ने के प्रस्ताव भी बन रहे थे। संतों ने आगे आकर इसे रोका। आदि शंकराचार्य की दूरदर्शिता थी कि उन्होंने सैंकड़ों साल पहले ही सागर नाम के संन्यासियों को समुद्र की रक्षा के लिए तैनात कर दिया था। गिरि और पर्वत नाम के सन्यासियों को पहाड़, वहां के निवासी, औषधि, प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा के लिए नियुक्त किया। ये भी ज्योतिर्मठ से संबद्ध हैं। इस तरह दस तरह के संन्यासियों को उनके दायित्व सौंप दिये। अगर ये दशनामी संन्यासी अपने दायित्यों को ठीक से समझते और चारों शंकराचार्य इनका ठीक से नेतृत्व करते तो आज भारत की ये दुर्दशा नहीं होती। धर्मराज्य की पुनर्स्थापना और सम्राट सुधन्वा की स्थापना के बाद आदि शंकराचार्य ने भारतीय सनातन ग्रंथों को क्रमबद्ध किया। बौद्ध धर्म में जिन ग्रंथों को दूषित कर दिया गया था, उन सबको फिर से अपनी व्याख्याओं से शुद्ध किया। ब्रह्मसूत्र आदि की व्याख्या से सूत्र विज्ञान को विकसित किया।

अरविन्द तिवारी की रपट

About The Author

11,779 thoughts on “आदि शंकराचार्य जयंती पर पुरीपीठाधीश्वर का दिव्यतम संदेश

  1. I’m curious to find out what blog system you are using? I’m experiencing some minor
    security problems with my latest website and I’d like to find something more
    secure. Do you have any recommendations?

  2. Excellent weblog here! Also your site a lot up fast!
    What web host are you using? Can I am getting your affiliate hyperlink on your host?
    I desire my web site loaded up as quickly as yours lol

  3. Excellent article. Keep posting such kind of info on your site.
    Im really impressed by your site.
    Hey there, You have performed a fantastic job.
    I’ll certainly digg it and for my part suggest to my friends.

    I’m sure they will be benefited from this site.

  4. Fantastic goods from you, man. I’ve understand your stuff
    previous to and you’re just too magnificent. I actually like what you have acquired here, certainly like what you’re saying and the way
    in which you say it. You make it entertaining and you still care for to keep it sensible.
    I can’t wait to read much more from you. This is actually a wonderful web site.

  5. I am the co-founder of JustCBD company (justcbdstore.com) and I am currently aiming to develop my wholesale side of business. I am hoping someone at targetdomain share some guidance 🙂 I considered that the best way to do this would be to reach out to vape companies and cbd stores. I was really hoping if anybody could recommend a dependable site where I can purchase CBD Shops Business Email Addresses I am already examining creativebeartech.com, theeliquidboutique.co.uk and wowitloveithaveit.com. Not exactly sure which one would be the best choice and would appreciate any advice on this. Or would it be much simpler for me to scrape my own leads? Suggestions?

  6. Aw, this was an incredibly good post. Taking the time and actual effort to create a superb article… but what can I say… I procrastinate a lot and don’t manage to get anything done.

  7. A motivating discussion is worth comment. There’s no doubt that that you ought to write more about this topic, it might not be a taboo subject but usually folks don’t talk about these subjects. To the next! Kind regards!!

  8. I seriously love your site.. Great colors & theme. Did you develop this site yourself? Please reply back as I’m wanting to create my own personal website and want to know where you got this from or exactly what the theme is named. Many thanks!

  9. Aw, this was an exceptionally nice post. Taking the time and actual effort to make a top notch article… but what can I say… I hesitate a lot and don’t manage to get nearly anything done.

  10. I’m amazed, I have to admit. Seldom do I encounter a blog that’s both educative and amusing, and without a doubt, you have hit the nail on the head. The problem is an issue that too few folks are speaking intelligently about. Now i’m very happy that I stumbled across this in my search for something relating to this.

  11. Hi, I do think your web site may be having internet browser compatibility problems. When I take a look at your website in Safari, it looks fine however, when opening in IE, it has some overlapping issues. I simply wanted to give you a quick heads up! Other than that, wonderful blog!

  12. After exploring a handful of the blog articles on your blog, I honestly appreciate your technique of blogging. I book-marked it to my bookmark website list and will be checking back in the near future. Please check out my web site too and tell me how you feel.

  13. When I originally commented I appear to have clicked the -Notify me when new comments are added-
    checkbox and now whenever a comment is added I receive
    4 emails with the exact same comment. Is there an easy method you can remove me from that service?
    Many thanks! adreamoftrains best web hosting
    company

  14. An interesting discussion is definitely worth comment. I think that you ought to publish more on this issue, it may not be a taboo matter but generally people don’t speak about these subjects. To the next! Kind regards!!

  15. When I initially left a comment I appear to have clicked the -Notify me when new comments are added- checkbox and now whenever a comment is added I recieve four emails with the exact same comment. Perhaps there is a way you can remove me from that service? Cheers!

  16. An impressive share! I’ve just forwarded this onto a friend who had been conducting a little homework on this. And he actually ordered me lunch because I discovered it for him… lol. So allow me to reword this…. Thank YOU for the meal!! But yeah, thanx for spending time to discuss this matter here on your website.

  17. Oh my goodness! Impressive article dude! Many thanks, However I am encountering issues with your RSS. I don’t understand why I can’t subscribe to it. Is there anybody else getting similar RSS issues? Anybody who knows the answer can you kindly respond? Thanx!!

  18. After looking over a handful of the articles on your site, I really appreciate your technique of writing a blog. I book marked it to my bookmark site list and will be checking back soon. Take a look at my web site too and tell me how you feel.

  19. I wanted to thank you for this fantastic read!! I absolutely enjoyed every bit of it. I have got you saved as a favorite to look at new stuff you post…

  20. lucabetasia loginนั้น มีขั้นตอนง่ายๆ สามารถทำได้ผ่านทางเว็บไซต์หรือแอปพลิเคชั่นของ Lucabetasia ได้อย่างสะดวกและง่ายดายใน PG SLOT

  21. 168pg สล็อตเป็นเกมคาสิโนที่ได้รับความนิยมอย่างมากในปัจจุบัน ซึ่งมีรูปแบบการเล่นหลากหลาย โดยเราสามารถแบ่งประเภทของ PG SLOTออนไลน์

  22. rama66 เว็บคาสิโนออนไลน์โฉมใหม่ล่าสุด rama66 ให้บริการเกมอะไรบ้าง เราเปิดให้ผู้เล่นได้เดิมพันคาสิโนสดตลอด 24 ชั่วโมง มีค่ายเกมบริการมากมายหลากหลายรูปแบบ สล็อต บาคาร่าออนไลน์ เล่นได้ทุกค่ายฮิต ลิขสิทธิ์แท้ 100% เเละ ยังสามารถเล่นเกมได้อย่างเสถียร ลื่นไหล ไม่เด้ง ไม่หลุด เงินรางวัลก้อนโตทำได้จริง ถอนได้ชัวร์

  23. [url=https://sexypg1688.com/slot-no-minimum/]สล็อตไม่มีขั้นต่ำ[/url]เลือกเราเท่ากับรวย

  24. And a betting website that allows you to make all transactions on one website like pgslot.bar comes with a promotion And other services on 168xo this website can complete the list. Allows you to play slots games comfortably, low investment, but has the opportunity to really win a hundred thousand, opening the experience for the first time, can receive additional funds straight away just subscribe only here And of course, it comes with many additional perks too. Play low-paying slots games starting at only 1 baht and win prizes immediately. It is considered a very good opportunity for anyone who wants to start investing in online gambling games such as pgslot.bar. but also comes with quality games that can be played with great prizes, easy to break, with many additional formulas It can be used from the first time you play with us. Considered coming here to play, worth playing, having fun with additional opportunities from both the promotion And free betting formulas that the web has for you.

  25. 1688upx com เข้า สู่ ระบบวิธีการเข้าถึงและตะลุยโลกของโอกาสออนไลน์ที่ไม่เหมือนใคร คู่มือครอบคลุมนี้จะนำคุณผ่านกระบวนการขั้นตอนอย่างละเอียด PGSLOT เพื่อให้คุณมีความเชี่ยวชาญและอำนาจในการนำทาง

  26. buying cheap mobic without insurance [url=https://mobic.store/#]cost of mobic without insurance[/url] cost of mobic without dr prescription

  27. brillx официальный сайт играть онлайн
    https://brillx-kazino.com
    Брилкс казино предоставляет выгодные бонусы и акции для всех игроков. У нас вы найдете не только классические слоты, но и современные игровые разработки с прогрессивными джекпотами. Так что, возможно, именно здесь вас ждет величайший выигрыш, который изменит вашу жизнь навсегда!Сияющие огни бриллкс казино приветствуют вас в уникальной атмосфере азартных развлечений. В 2023 году мы рады предложить вам возможность играть онлайн бесплатно или на деньги в самые захватывающие игровые аппараты. Наши эксклюзивные игры станут вашим партнером в незабываемом приключении, где каждое вращение барабанов приносит невероятные эмоции.

  28. generic zithromax 500mg [url=https://azithromycin.men/#]where can i buy zithromax medicine[/url] buy zithromax online cheap

  29. ezybet168 เว็บไซต์ตรง ไม่ผ่านเอเย่นต์ เกมพนันออนไลน์มาแรง เป็นที่นิยมจากนักการพนันอย่างสม่ำเสมอ เว็บไซต์รวมเกมทุกค่ายชั้นหนึ่ง pg slot พร้อมโปรโมชั่นแบบจัดเต็ม แจกฟรีโบนัส