मटियारी के कृषि भूमि पर स्थापित होने वाले उद्योग के निर्माण से : पास के खेतों में राखड़ भरा खेत बर्बाद किसान परेशान

1

भुवन वर्मा बिलासपुर 10 जुलाई 2024

बिलासपुर। ग्राम मटियारी हल्का नं. 00016 रा.नि.मं. बेलतरा तहसील व जिला बिलासपुर खेतों में रखड़ भर जाने से कृषक हरा भरा खेत बर्बाद हो गया किसान कलेक्टर को ज्ञापन देखकर समाधान की मांग की है। विदित होगी किसान के खेत भूमि के समीप स्थित कृषि भूमि में स्थापित मे. बिलासपुर आटोमेटेड फिटनेस सेंटर ग्राम मटियारी द्वारा राखड़ का उपयोग कर उपजाऊ कृषि भूमि को नुकसान पहुँचाने की लिखित शिकायत कर न्याय की मांग की है ।यह कि ग्राम मटियारी हल्का नं. 00016 रा.नि.म. बेलतरा तहसील व जिला बिलासपुर (छ.ग.) में मेरे नाम (बलदाऊ प्रसाद अग्रवाल आत्मज स्व.श्री रामसुन्दर लाल अग्रवाल) खसरा नं. 436/1 रकबा 3.40 एकड़ कृषि स्थित हैं। यह कृषि भूमि पैतृक संपत्ति है। मेरी उपरोक्त वर्णित कृषि भूमि से जुड़ी हुई कृषि भूमि रोइंग आई सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड द्वारा डायरेक्टर मिथुन विश्ंमभरन पिता विश्ंमभरन निवासी वलीपरम्बिल हाऊस एंगडियूर त्रिशूर जिला त्रिशूर केरल पिन नं. 680615, मो.नं.9895901999 के द्वारा विगत एक-दो वर्ष पूर्व खरीदी गई है ।और इस भूमि पर मे.बिलासपुर आटोमेटेड फिटनेस सेंटर ग्राम मटियारी में स्थापित किया जा रहा है। जिसका निर्माण कार्य विगत वर्षो से निरंतर जारी हैं।उपरोक्त वर्णित कृषि भूमि एवं उस पर स्थापित होने वाले उद्योग के निर्माण कार्यो का सुपरविजन रायपुर निवासी विनोद नत्थानी मो.नं. 7974596129 द्वारा किया जा रहा है।

उपरोक्त व्यक्तियों द्वारा खरीदी गई कृषि भूमि पर उद्योग स्थापित करने हेतु बाऊंड्री वाल एवं बिल्डिंग का निर्माण किया जा चुका है। इस कृषि भूमि समतल करने के लिए हजारों ट्रक राखड़ का उपयोग कर भूमि का समतलीकरण किया गया है। बरसाती पानी के निकासी का कोई समुचित उपाय नहीं किया गया फलस्वरूप सितम्बर 2023 के बरसात में पानी निकासी बाउंड्री वाल को नीचे जमीन से काटकर अनाधिकृत रूप से मेरे कृषि भूमि में बरसाती पानी का निकासी कराया गया। परिणाम स्वरूप उनके द्वारा समतलीकरण के लिए उपयोग किया गया। राखड़ मेरे कृषि भूमि में भारी मात्रा में जमा हो गया।

प्रश्न यह है कि इतनी भारी मात्रा में राखड़ पटाई हेतु वैधानिक रूप से कहाँ से मिल गई ?
जिसके कारण मेरी खड़ी सम्पूर्ण फसल (धान) पूरी तरीके से खराब हो गई मुझे भारी आर्थिक नुकसान हुआ। (लगभग 1.50 लाख)
मेरे पुत्र राजीव अग्रवाल, भाई घनश्याम अग्रवाल, अवधेश अग्रवाल द्वारा उपरोक्त बरसाती पानी से हुए नुकसान के लिए उनके सुपरवाईजर श्री विनोद नत्थानी के फोन नं. 7974596129 पर लगातार सम्पर्क किया गया है पर आज तक विनोद नत्थानी द्वारा सिर्फ आश्वासन दिया जा रहा है कोई समाधान निकालने को तैयार नहीं है।

वर्तमान में मेरे खेत में सैकड़ो ट्रक का राखड़ जमा है जिससे इस वर्ष 2024 में भी उस भूमि पर कृषि कर पाना सम्भव नहीं है। उक्त राखड़ को खेत से निकालने में लगभग 1 लाख का खर्च अनुमानित है।
कृषि भूमि पर उद्योग की स्थापना पर्यावरण की दृष्टि से बहुत नुकसानदायक है। जिस भूमि पर उपरोक्त उद्योग स्थापित किया गया है सम्पूर्ण भूमि कृषि उपयोग की भूमि है। इस पर कैसे स्थापित हुआ, किनके द्वारा उद्योग स्थापना की अनुमति दी गई यह विचारणीय प्रश्न है, सम्पूर्ण जाँच का विषय है। पर्यावरण को ध्यान में रखते हुये तुरंत उपरोक्त स्थापित उद्योग को बंद किये जाने की कार्यवाही हो एवं मुझे मेरे खेत को हुए नुकसान की भरपाई शासन द्वारा किया जाना चाहिए। खेत में फसल नुकसान लगभग 1.50 लाख- खेत से राखड़ निकालने का खर्च 1 लाख कुल राशि 2.50 लाख  नुकसान राशि की भरपाई एवं निर्माण अधिनियम फैक्ट्री को बंद करने की हेतु तत्काल उचित कार्यवाही हेतु निवेदन कलेक्टर महोदय से किया गया है। पीड़ित कृषक बलदाऊ प्रसाद अग्रवाल आत्मज स्व. श्री रामसुंदर लाल अग्रवाल (कृषक ग्राम मटियारी) सम्पर्क- राजीव अग्रवाल
मो.नं. 7000613713 के मांग पर अबतक कोई कार्यवाही नही हुई है।

About The Author

1 thought on “मटियारी के कृषि भूमि पर स्थापित होने वाले उद्योग के निर्माण से : पास के खेतों में राखड़ भरा खेत बर्बाद किसान परेशान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed