गीता जयंती के अवसर पर : इस्कॉन बिलासपुर द्वारा देवकीनंदन चौक से खाटू श्याम मंदिर तक भव्य शोभायात्रा 4 दिसंबर को

भुवन वर्मा बिलासपुर 03 दिसंबर 2022

बिलासपुर । गीता जयंती एक महत्वपूर्ण उत्सव है, और इसका उद्देश्य लोगो को भगवद गीता के पवित्र सन्देश के प्रति सजग करना है। श्रीमद् भगवद गीता मानव के लिए अनुपम उपहार है और समस्त शास्त्रों में सर्वोपरि है। भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं महाभारत के युद्ध की शुरुआत से पहले कुरुक्षेत्र के मैदान में अपने मित्र अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। उस दिन को दुनिया भर में गीता जयंती के रूप में मनाया जाता है। श्रीमद् भगवद गीता में निहित ज्ञान हमें दुख, लालच और अज्ञानता से मुक्त करने और जीवन भर धैर्य रखने की क्षमता विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करता है। श्रीमद् भगवद गीता में लगभग 700 श्लोक हैं जो हमें जीवन के मूल्यों और जीवन जीने की कला सिखाते हैं।

इस वर्ष 4 दिसंबर को सायं 5 बजे से, गीता जयंती के शुभ अवसर पर, इस्कॉन बिलासपुर द्वारा देवकीनंदन चौक से खाटू श्याम मंदिर तक एक भव्य शोभायात्रा निकली जा रही है । इस दुनिया में हममें से अधिकांश लोगों की स्थिति अर्जुन के जैसी ही है , हम भी अर्जुन के जैसे ही एक से बढ़ कर एक विकट स्थितियों का सामना करते हैं । इसलिए जो मार्ग अर्जुन ने आत्मसात किया उसे हमें भी अपना लेना चाहिए । अर्जुन ने श्री कृष्ण के परम आश्रय प्राप्त किया और उनके चरण कमल में पूर्ण समर्पण कर दिया। उसके बाद क्या हुआ, कि श्री कृष्ण ने युद्ध के मैदान को एक कक्षा में बदल दिया ।

आइए इस श्रीमद भगवद गीता संदेश को अपनाएं और अपने जीवन के युद्धों में विजयी हों। इस दो घंटे के उत्सव में अधिक से अधिक संख्या में शामिल हों, भगवान के नाम का गुनगुनाना और संकीर्तन उत्सव में अपने आप को गीता के निर्देश में डुबो करऔर भक्तों की संगति से जीवन का उद्देश्य प्राप्त करे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.