भुवन वर्मा, 25 August 2019

बिलासपुर । महिला एवम बाल विकास विभाग में 15 साल तक जिलों में बैठे अधिकारियों ने स्वेच्छाचारिता और मनमौजी पूर्वक कार्य करते हुए पसंदीदा अधीनस्थों को नियम विरुद्ध अपने कार्यालयों में रखकर काम लिया और उनका वेतन दूसरे स्थानों से निकाला जाता रहा ।पर्यवेक्षकों का जिला कार्यालय में कोई पद नही होता मगर कई पर्यवेक्षकों को अटैच कर सालों उनसे काम लिया जाता रहा जबकि दूरस्थ आदिवासी अंचलों में 200 स्थानों में वर्षों से पद खाली पड़े रहे क्योकि वहां कोई जाना नही चाहते थेऔर उनसे शहर का मोह नही छूट पा रहा था ।जिले में बैठे अधिकारी स्वार्थवश उनकी मदद करते रहे । अब जब महिला एवं बाल विकास मंत्री ने पूरी छानबीन कर एक्शन लेना शुरू किया है तो सबको तकलीफ होना लाजिमी है ।पिछली भाजपा सरकार के दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग में पर्यवेक्षक , परियोजना अधिकारी तथा जिला मुख्यालय में पदस्थ कई अधिकारियो ने एक ही जिले में 10 से 15 साल तक रहने का रिकार्ड कायम किया है । इतना ही नही विभाग के लिपिक पदोन्नति पाकर भी इसी जिले में और उसी स्थान पर अपनी पदस्थापना करा लेने में सफल रहे ।

कई परियोजना अधिकारी व पर्यवेक्षक तो राज्य निर्माण के पहले से ही जिले में पदस्थ है और उनका तबादला नही हो पाया । कई तो सेवानिवृति के करीब है ।कुछ परियोजना अधिकारी और पर्यवेक्षक तो या तो स्वयं रेडी टू इट संचालित करते है या फिर उनके पति रेडी टू इट का संचालन कर रहे है ।

कई के विरुद्ध तो विधानसभा चुनाव में खुले तौर पर भाजपा के पक्ष में काम करने के आरोप है ।हम यहां पर पूरी सूची दे रहे है जिसमें स्पष्ट है कि कौन किस स्थान पर कब से पदस्थ है ? 10 से 15 साल से पदस्थ अमले को एक ही झटके में अन्यंत्र भेजने के निर्णय का सुनियोजित ढंग से विरोध भी कराया जा रहा है । गर्भवती महिलाओं और शिशुओं को दिए जाने वाले पौष्टिक आहार में भी डंडी मारने का काम सुनियोजित ढंग से हो रहा था । इसके बाद भी मंत्री ने उन्ही अमले को तबादले के लिए चिन्हित किया जो वर्ष 2015 से पहले से पदस्थ है मगर 2016और 2017 से पदस्थ ऐसे लोगो पर भी तबादले के चाबुक चलाया गया जिनके विरुद्ध अनेको गम्भीर शिकायतें मिल रही थी । गलत व मनमाने ढंग से अटैच होकर काम करने वालो का भी काम तमाम किया गया ।तबादले के लिए जिला मुख्यालयों से पूरा ब्यौरा मंगाए जाने पर उसमे भी गड़बड़ी की गई और पसंदीदा अमले की पोस्टिंग तिथि कई की जानबूझकर गलत बताई गई ताकि उनका तबादला न किया जा सके और जिन पर्यवेक्षकों और परियोजना अदिकरियो से नही पटती उनकी जानकारी में जानबूझकर लम्बे समय से पदस्थ होना बताया गया ताकि उनका तबादला हो सके ।परियोजना अधिकारियों और पर्यवेक्षकों का पूरा विवरण देखें साथ मे उनके पदस्थ होने का साल भी दे।

10 Comments

  1. come g

    June 20, 2020 at 7:00 am

    Wow, that’s what I was seeking for, what a data! present here
    at this webpage, thanks admin of this site.

    Reply

  2. g want

    June 21, 2020 at 6:30 am

    Hey there just wanted to give you a quick heads up.
    The text in your post seem to be running off the screen in Internet explorer.
    I’m not sure if this is a format issue or something to do with web browser compatibility
    but I figured I’d post to let you know. The style and design look great though!
    Hope you get the issue solved soon. Many thanks

    Reply

  3. him g

    June 21, 2020 at 11:04 pm

    Excellent blog you have got here.. It’s difficult to find high-quality writing like yours nowadays.
    I truly appreciate individuals like you!
    Take care!!

    Reply

  4. https://tinyurl.com/rsacwgxy g

    June 22, 2020 at 11:47 am

    I visit daily a few blogs and websites to read articles, except
    this blog offers feature based articles.

    Reply

  5. anthinhminerals.vn

    June 26, 2020 at 11:56 am

    Peculiar article, just what I was looking for.

    Reply

  6. cbd gummies

    July 20, 2020 at 2:57 pm

    I am the owner of JustCBD company (justcbdstore.com) and I am currently aiming to expand my wholesale side of business. It would be great if someone at targetdomain give me some advice . I considered that the very best way to accomplish this would be to talk to vape stores and cbd retailers. I was hoping if someone could suggest a trusted web-site where I can get CBD Shops B2B Database I am presently examining creativebeartech.com, theeliquidboutique.co.uk and wowitloveithaveit.com. Unsure which one would be the most suitable choice and would appreciate any support on this. Or would it be much simpler for me to scrape my own leads? Suggestions?

    Reply

  7. web hosting providers

    July 27, 2020 at 5:49 am

    This design is wicked! You definitely know how to keep a reader entertained.
    Between your wit and your videos, I was almost moved to start my own blog (well, almost…HaHa!) Wonderful job.
    I really enjoyed what you had to say, and more than that, how you presented it.
    Too cool!

    Reply

  8. Phoenix marketing agencies

    August 1, 2020 at 1:08 pm

    Your style is very unique compared to other folks I have read stuff from. I appreciate you for posting when you have the opportunity, Guess I will just bookmark this blog.

    Reply

  9. create Facebook video ad

    August 2, 2020 at 12:56 am

    Hi there! This article could not be written any better! Reading through this article reminds me of my previous roommate! He always kept preaching about this. I will forward this information to him. Pretty sure he will have a great read. Thank you for sharing!

    Reply

  10. Remote Fill System

    August 3, 2020 at 11:54 am

    It’s hard to find well-informed people for this topic, but you seem like you know what you’re talking about! Thanks

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.