लोकसभा चुनाव से पहले चुनाव आयुक्त ने दिया इस्तीफा…जानें क्या है वजह…

0

नई दिल्ली। चुनाव आयुक्त अरुण गोयल ने शनिवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। बताया जाता है कि गोयब पंजाब कैडर के 1985 बैच के अफसर है। आईएएस से इस्तीफा देकर 20 नवंबर 2022 में वे चुनाव आयुक्त बने थे। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है।

अरुण गोयल के इस्तीफे के पीछे क्या वजह है, इसके बारे में अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है। चुनाव आयुक्त का इस्तीफा ऐसे समय में आया है जबकि चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जोर-शोर से जुटा हुआ है।

 

बता दें कि देश में इस समय लोकसभा चुनाव की तैयारी चल रही है। चुनाव आयोग का काम इस समय बहुत बढ़ जाता है। ऐसे में गोयल के इस्तीफे से तरह-तरह के सवाल खड़े हो रहे है। गौरतलब है कि अरुण गोयल के इस कदम के बाद अब चुनाव आयोग में 2 रिक्तियां हो गई हैं।

 

चुनाव आयोग में कमिश्नर के अब दो पद खाली हो गए हैं। 1985 बैच के आईएएस अधिकारी अरुण गोयल ने अरुण गोयल पहले सचिव, भारी उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार के रूप में काम कर चुके हैं।

About The Author

रायगढ़ में पुरानी रंजिश में डिप्टी रेंजर संजय तिवारी (53) को बोलेरो सवार ने कुचलकर मार डाला। बाइक पर जा रहे संजय को देखकर आरोपी ने बोलेरो को मोड़कर पीछा किया। फिर कृषि उपज मंडी के पास बाइक को टक्कर मार दी, जिससे संजय रोड पर गिर गया। साइड ग्लास से संजय को देखा तो उसे ज्यादा चोंटे नहीं आई थी, तो गाड़ी बैक कर फिर से ठोकर मारी। इससे संजय तिवारी के सिर, माथे में गंभीर चोटें आई। गुरुवार दोपहर 3 बजे की इस घटना के बाद राहगीरों ने उन्हें मजयगढ़ पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्या को हादसा दिखाने की कोशिश की, लेकिन साजिश नाकाम रही। आरोपी को गिरफ्तार कर फौरन सिविल अस्पताल धरलिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

रायगढ़ में पुरानी रंजिश में डिप्टी रेंजर संजय तिवारी (53) को बोलेरो सवार ने कुचलकर मार डाला। बाइक पर जा रहे संजय को देखकर आरोपी ने बोलेरो को मोड़कर पीछा किया। फिर कृषि उपज मंडी के पास बाइक को टक्कर मार दी, जिससे संजय रोड पर गिर गया। साइड ग्लास से संजय को देखा तो उसे ज्यादा चोंटे नहीं आई थी, तो गाड़ी बैक कर फिर से ठोकर मारी। इससे संजय तिवारी के सिर, माथे में गंभीर चोटें आई। गुरुवार दोपहर 3 बजे की इस घटना के बाद राहगीरों ने उन्हें मजयगढ़ पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्या को हादसा दिखाने की कोशिश की, लेकिन साजिश नाकाम रही। आरोपी को गिरफ्तार कर फौरन सिविल अस्पताल धरलिया गया है।