हनुमान प्राकट्योत्सव पर विशेष

2201

भुवन वर्मा, बिलासपुर 07 अप्रैल 2020

जाँजगीर चाँपा — प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी आज भगवान श्रीराम भक्त संकटमोचन हनुमान का प्रकटोत्सव है। ” राम काज कीन्हें बिनु , मोहिं कहां विश्राम” ये दोहा बताता है कि राम के लिये ही श्री हनुमान अवतार लेते हैं। राम विष्णु के अवतार हैं तो श्री हनुमान जी ग्यारहवें रुद्रावतार हैं। बिना हनुमान की भक्ति के रामभक्ति पाना असंभव है। इस बार कोरोना वायरस संक्रमण के डर से हनुमानजी का प्राकट्योत्सव सामूहिक रूप से हर्षोल्लास के साथ नहीं मनाया जायेगा। लाकडाऊन के चलते सभी धार्मिक स्थल बंद है। मंदिरों में कोई विशेष अनुष्ठान भी नहीं होंगे, सिर्फ पुजारी ही कुछ एक श्रद्धालुओं की मौजूदगी में सुबह पूजा-अर्चना, सिंदूर से अभिषेक और हनुमान चालीसा-सुंदरकांड , बजरंग बाण का पाठ करेंगे। शहर में कोई शोभायात्रा नहीं निकलेंगे। लोग घर पर ही श्रद्धा-भाव से श्री हनुमानजी का प्रकटोत्सव मनायेंगे और घर-घर में ही हनुमान चालीसा पाठ की गूंँज सुनायी देगी।वैसे तो सभी जगहों में श्री हनुमान जी की मूर्तियांँ स्थापित हैं लेकिन नहरिया बाबा नैला जाँजगीर सहित कुछ मंदिर ऐसे भी हैं जो सिर्फ हनुमानजी के नाम से ही जाने जाते हैं। यह मंदिर वर्षों पुराने भी हैं और हमारे आस्था स्थल भी हैं। इन मंदिरों में प्रतिदिन सैकड़ों लोग पहुँचते थे लेकिन लाकडाऊन के चलते श्रद्धालुओं के दर्शन पर विराम लग गया है। सात चिरंजीवियों में एक श्री हनुमान जी की साधना कलयुग में सबसे अधिक की जाती है। देश का शायद ही ऐसा कोई कोना होगा जहांँ पर अष्ट सिद्धि के दाता की श्रीहनुमान जी की पूजा ना की जाती हो। हनुमानजी संकटमोचन हैं जिनका सुमिरन करने मात्र से ही बड़े से बड़े संकट और दु:ख दूर हो जाते हैं।
हनुमान जी का जन्म वैसे तो दो तिथियों में मनाया जाता है- पहला चैत्र माह की पूर्णिमा को तो; दूसरी तिथि कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है।पौराणिक ग्रंथों में भी दोनों तिथियों का उल्लेख मिलता है। लेकिन एक तिथि को जन्मदिवस के रुप में तो दूसरी को विजय अभिनन्दन महोत्सव के रुप में मनाया जाता है। उनकी जयंती को लेकर दो कथायें भी प्रचलित हैं। धर्मग्रंथों में उल्लेख है कि माता अंजनी के उदर से हनुमान जी पैदा हुये। उन्हें बड़ी जोर की भूख लगी हुई थी. इसलिये वे जन्म लेने के तुरंत बाद आकाश में उछले और सूर्य को फल समझ खाने की ओर दौड़े। उसी दिन राहू भी सूर्य को अपना ग्रास बनाने के लिये आया हुआ था लेकिन हनुमान जी को देखकर उन्होंने इसे दूसरा राहु समझ लिया। तभी इंद्र ने पवनपुत्र पर वज्र से प्रहार किया जिससे उनकी ठोड़ी पर चोट लगी व उसमें टेढ़ापन आ गया. इसी कारण उनका नाम भी हनुमान पड़ा। इस दिन चैत्र माह की पूर्णिमा होने से इस तिथि को हनुमान जयंती के रुप में मनाया जाता है। वहीं दूसरी कथा माता सीता से हनुमान को मिले अमरता के वरदान से जुड़ी है। एक बार माता सीता अपनी मांग में सिंदूर लगा रही थी तो हनुमान जी को यह देखकर जिज्ञासा जागी कि माता ऐसा क्यों कर रही हैं ? उनसे अपनी शंका को रोका न गया और माता से पूछ बैठे कि माता आप अपनी मांग में सिंदूर क्यों लगाती हैं? तब माता सीता ने कहा कि इससे मेरे स्वामी श्री राम की आयु और सौभाग्य में वृद्धि होती है रामभक्त हनुमान ने सोचा जब माता सीता के चुटकी भर सिंदूर लगाने से प्रभु श्री राम का सौभाग्य और आयु बढ़ती है तो क्यों न पूरे शरीर पर ही सिंदूर लगा लूंँ। उन्होंने ऐसा ही किया. इसके बाद माता सीता ने उनकी भक्ति और समर्पण को देखकर महावीर हनुमान को अमरता का वरदान दिया। माना जाता है कि यह दिन दीपावली का दिन था इसलिये इस दिन को भी हनुमान जयंती के रुप में मनाया जाता है और सिंदूर चढ़ाने से बजरंग बलि के प्रसन्न होने का भी यही रहस्य है।प्रभु श्री राम के भक्त संकट मोचन, महावीर, बजरंग बलि , हनुमान की महिमा सबसे न्यारी है। सूरज को निगलना, पर्वत को उठाकर उड़ना, रावण की सोने की लंका को फूंँकना कितने ही ऐसे असंभव लगने वाले कार्य हैं जिन्हें श्री हनुमान ने सहज ही कर दिखाया।

जय श्री राम, जय हनुमान
अरविन्द तिवारी की रपट

About The Author

2,201 thoughts on “हनुमान प्राकट्योत्सव पर विशेष

  1. This is really attention-grabbing, You are an overly professional blogger.
    I have joined your rss feed and stay up for in quest of extra of your magnificent post.
    Also, I’ve shared your site in my social networks

  2. Wonderful blog! Do you have any hints for aspiring writers?
    I’m hoping to start my own blog soon but I’m a little lost on everything.
    Would you suggest starting with a free platform like
    Wordpress or go for a paid option? There are
    so many choices out there that I’m totally overwhelmed ..
    Any tips? Appreciate it!

  3. Hmm is anyone else encountering problems with the images on this blog loading?
    I’m trying to figure out if its a problem on my end or if it’s the
    blog. Any feedback would be greatly appreciated.

  4. Howdy! Quick question that’s entirely off topic.

    Do you know how to make your site mobile friendly?

    My website looks weird when viewing from my
    iphone. I’m trying to find a theme or plugin that
    might be able to correct this issue. If you have any
    suggestions, please share. Many thanks!

  5. I’m the owner of JustCBD label (justcbdstore.com) and am aiming to develop my wholesale side of business. I am hoping someone at targetdomain is able to provide some guidance 🙂 I thought that the most effective way to do this would be to reach out to vape stores and cbd stores. I was really hoping if anybody could recommend a trustworthy web site where I can buy CBD Shops Business Mailing List I am presently looking at creativebeartech.com, theeliquidboutique.co.uk and wowitloveithaveit.com. Not exactly sure which one would be the most suitable selection and would appreciate any advice on this. Or would it be much simpler for me to scrape my own leads? Ideas?

  6. After looking at a number of the blog posts on your site, I truly appreciate your technique of writing a blog. I saved as a favorite it to my bookmark site list and will be checking back in the near future. Please check out my web site as well and let me know what you think.

  7. Hey exceptional blog! Does running a blog such as this require a massive amount work?
    I have virtually no expertise in computer programming but I had been hoping
    to start my own blog in the near future. Anyway, if you have any ideas
    or techniques for new blog owners please share.

    I understand this is off topic nevertheless I simply had to
    ask. Thanks a lot!

  8. An intriguing discussion is worth comment. There’s no doubt that that you should write more about this issue, it might not be a taboo subject but typically people don’t discuss such issues. To the next! All the best!!

  9. Hi there! This article couldn’t be written any better! Going through this article reminds me of my previous roommate! He always kept preaching about this. I am going to send this post to him. Fairly certain he will have a good read. I appreciate you for sharing!

  10. If you are on IOS, you can easily download the app from the app store. Players on Android will need to get the APK file straight off the Bet365 Casino website. The selection of standard online casino games at bet365 Casino is minimal. Blackjack and roulette are the two most popular options here, and they are available in a few variants. Beyond that, however, there aren’t many other casino games to play. Bet365 Casino joined New Jersey in 2019 and is available for Android. Recent changes: We’ve made a number of enhancements and improvements. Please send us any feedback you have as we’re always looking to improve our app! Another one of the great things about bet365 Ohio is the amount of sports markets offered on the bet365 app. We go into more details below about this, but suffice it to say, we were blown away by the variety when we reviewed bet365 sportsbook in New Jersey and Colorado.
    https://kameronhfca730730.worldblogged.com/25371959/admiral-casino-free-spins
    Yes, you can place Vegas-style live bets with the best online sportsbooks. Since NASCAR is so exciting to watch, live betting gives race fans the opportunity to not only watch the race but bet in real time. What could be more exciting than that? Odds listed on OLBG are subject to change. Always check the odds you are receiving at the point of confirming your bet. If you click through to any of the betting sites or casino sites listed on this site then OLBG may receive a payment. Free bets and casino offers are subject to terms and conditions, please check these thoroughly before taking part in a promotion. The city’s Department of Transportation is launching a new Open Street on Staten Island specifically geared towards the borough’s Jewish community, with its hours of operation aligned with the Sabbath.