कुर्मी चेतना पंचांग 2022 का विमोचन मुख्यमंत्री के करकमलों से : समाज के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज – भूपेश बघेल

भुवन वर्मा बिलासपुर 11 जनवरी 2022

बिलासपुर । छत्तीसगढ़ कूर्मि-क्षत्रिय चेतना मंच द्वारा प्रकाशित कूर्मि समाज के लिए ’कूर्मि चेतना पंचांग 2022’ का विमोचन छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा मुख्यमंत्री निवास में दिनॉक 10 जनवरी 2022 को किया गया।विमोचन के अवसर पर मुख्यमंत्री महोदय द्वारा पंचांग का अवलोकन कर पंचांग को समाज के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज बताते हुए इसे कूर्मि समाज का विकीपिडिया बताया गया। 

ज्ञातव्य हो कि छत्तीसगढ़ कूर्मि- क्षत्रिय चेतना मंच द्वारा लगातार 26 वर्षो से सामाजिक चेतना जागृति एवं रचनात्मक कार्य कर समाज में वैज्ञानिक चिन्तन विकसीत करने का कार्य करते आ रहा है। इसी कड़ी में कूर्मि समाज के लिए एक सामाजिक विरासत कलेवर के रूप में “कूर्मि चेतना पंचांग 2022“ का प्रकाशन विगत 8 वर्षो से लगातार किया जा रहा है। पंचाग 26 पृष्ठों वाले बहुरंगी कलेण्डर को समाजोपयोगी बनाते हुए समसामयिक पहलूओं, व्रत व त्यौहार तथा समाज के महापुरूषों के आदर्शो के साथ कूर्मि समाज के संस्कृति व रीति-रिवाज तथा इतिहास को शामिल किया गया है। इस प्रचांग में न केवल तिथियों का ही उल्लेख है; बल्कि कूर्मि समाज की गौरवशाली इतिहास, समाज की समेकित विकास हेतु कार्ययोजना, विभिन्न प्रदेशों के पदाधिकारियों की जानकारियों के साथ समाज उन्नयन संबंधी कई महत्वपूर्ण तथ्यों का भी समावेश किया गया है। इस पंचाग में आपके दैनिक उपयोग संबंधी जानकारियां जैसे पंचक, मुहूर्त, मूल, गृह प्रवेश, कुण्डली मिलान इत्यादि बातों को भी बखूबी रेखांकित किया गया है। इस पंचांग में पूरे भारत वर्ष में निवासरत 1530 कूर्मि समाज के उप फिरकों सहित राज्यवार कूर्मियों की निवासरत जनसंख्या के साथ वर्तमान में केन्द्रीय मंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री के अलावा कई महत्वपूर्ण जानकारी समाहित किया गया है। अतः यह पंचांग हर चिंतनशील कूर्मियों के पढ़ने एवं संग्रहित करने योग्य है। 
विमाचन के अवसर पर राज्य सभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा के नेतृत्व में कूर्मि डॉ. निर्मल नायक (प्रदेशाध्यक्ष, छत्तीसगढ़ कूर्मि-क्षत्रिय चेतना मंच), कूर्मि डॉ. जीतेन्द्र सिंगरौल (प्रदेश महासचिव, छत्तीसगढ़ कूर्मि-क्षत्रिय चेतना मंच व प्रधान संपादक कूर्मि चेतना पंचांग 2022), पूर्व प्रांताध्यक्षगण कूर्मि सिध्देश्वर पाटनवार, कूर्मि डॉ. हेमंन्त कौशिक, कूर्मि बी. आर. कौशिक (पूर्व प्रदेशाध्यक्ष छत्तीसगढ़ कूर्मि-क्षत्रिय चेतना मंच बिलासपुर), कूर्मि लक्ष्मी गहवई, कूर्मि भारत लाल वर्मा, कूर्मि चमनलाल चंद्राकर, कूर्मि चंद्रशेखर चकोर, कूर्मि शेखर वर्मा, कूर्मि गुंजन बघेल सहित संपादक मंडल व कूर्मि समाज के सदस्यगण शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *