भुवन वर्मा, बिलासपुर 25 नवंबर 2019

बिलासपुर । देवसेना सामाजिक संस्था द्वारा प्लास्टिक मुक्त भारत अभियान के तहत नर्सरी पौधों का कवर प्लास्टिक की जगह बायो ग्रडिबल कपड़े से आकर्षक एवं सस्ता कवर बनाए जाने देवसेना संस्था के ट्रेर्नर द्वारा आज गनियारी( कोटा) शासकीय डोम मे समूहो क़ो ट्रेनिग दी गई है l प्रशिक्षित महिला समूह व सदशयों को वन विभाग उद्यानिकी एवम संबंधित विभाग द्वरा कवर बनाने का आर्डर दिए जाने से समूहो को एक बड़ा रोजगार का अवसर मिलेगा । जहाँ हमारा प्रदेश में प्लास्टिक से मुक्त पर्यावरण होगा वहीं दूसरी ओर महिलाओं को आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर होने का अवसर प्राप्त होगा ।

ज्ञात हो कि देवसेना छत्तीसगढ़ की महिला समाजसेवी संस्था” द्वारा छत्तीसगढ़ के सुदूर अति पिछड़े ग्रामीण एवं वन परिक्षेत्रों की आदिवासी अशिक्षित एवं आर्थिक रूप से कमजोर तथा विकास की मुख्य धारा से कटे हुए ग्रामीण महिलाओं को विशेष तकनीकी प्रशिक्षण देकर उनमें कौशल एवं उद्यमिता की भावना का विकास कर शासकीय सहायता एवं संस्थागत योजनाओं द्वारा बनाये गए लघु एवं हाथकरघा उद्योगों के उत्पादों को सुदूर ग्रामीण अंचल से लेकर राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर के बाजारों तक सीधे पंहुचाने का मार्ग प्रशस्त कर उनको रोजगारोन्मुख आत्मनिर्भरता की ओर ले जाने का कार्य विगत कई वर्षों से निरंतर कर रही है।

पर्यावरण हितैषी दोना-पत्तल, कटोरी निर्माण रेलवे स्टेशनों में खासतौर पर उपयोग से प्लाटिक मुक्त भारत के दृढ़ संकल्प के साथ सामाजिक न्याय, महिलाओं की शिक्षा, एवं आत्मनिर्भरता से उत्थान द्वारा समग्र समर्थ सम्पूर्ण विकसित स्वच्छ भारत के लक्ष्य की प्राप्ति हेतु समर्पित . . आदर्श समाज के निर्माण के लिए संघर्ष के पथ पर, निरन्तर अग्रसर देवसेना छत्तीसगढ़ महिला सामाजिक संस्था का मूल उद्देश्य है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.