अंतरराष्‍ट्रीय वन दिवसः वेदांता एल्यूमिनियम अपने प्रचालन क्षेत्रों में करेगा बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण

28

कंपनी ने 150 हेक्टयेर से अधिक फैले अनुपयोगी फ्लाई ऐश डाइक क्षेत्र का सफलतापूर्वक वनीकरण किया

नई दिल्ली, 21 मार्च, 2024। अंतरराष्ट्रीय वन दिवस के अवसर पर भारत की सबसे बड़ी एल्यूमिनियम उत्पादक कंपनी वेदांता एल्यूमिनियम ने छत्तीसगढ़ व ओडिशा में अपने प्रचालन क्षेत्रों के भीतर व आसपास पर्यावरण संरक्षण हेतु कंपनी के प्रयासों की घोषणा की। जैव विविधता को संरक्षित व प्रोत्साहित करने की रणनीति हेतु कंपनी समर्पित है। कंपनी ने रिक्लेमेशन प्रक्रिया के तहत अपने पांच ऐश डाइक पर वनीकरण का काम सफलतापूर्वक पूरा किया है। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में स्थित भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड कंपनी (बालको) के ये ऐश डाइक्स अपनी पूरी क्षमता तक पहुंच जाने के कारण बंद हो चुके थे। 150 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल के इलाके में लगभग 2 लाख पौधे लगाए गए हैं। इस पहल के तहत ऐसी जमीन में जहां पहले जंगल न रहा हो उसमें भी सतत सुधार की गुंजाइश को अपनाया जा सकता है।

फ्लाई ऐश एक हाई-वॉल्यूम, लो-इफेक्ट बायप्रोडक्ट होता है जो थर्मल पावर के उत्पादन में निकलता है। फ्लाई ऐश का इस्तेमाल सर्कुलर इकॉनॉमी में होता है नतीजतन ऐश स्टोरेज एरिया का वनीकरण किया जा सकता है। रिक्लेमेशन प्रक्रिया के तहत ऐश डाइक्स को कई अवस्थाओं से गुजरना होता है जिनमें मिट्टी का आवरण, स्थिरीकरण, वन पारिस्थितिकी विकसित करने के लिए लैंडस्केपिंग, मूल वृक्ष प्रजातियों का रोपण व निरंतर निगरानी शामिल होते हैं। इन कोशिशों के फलस्वरूप यह इलाका कई स्थानीय पेड़-पौधों की किस्मों जैसे करंज, शीशम, नीम, अमसोल व गुलमोहर वृक्षों का घर बन गया है। कंपनी द्वारा लगाए गए इन पेड़ों की बदौलत यहां जैव विविधता फल-फूल रही है।

ओडिशा के झारसुगुड़ा मे कंपनी का मेगा एल्यूमिनियम प्लांट है। वेदांता एल्यूमिनियम ने जिले में अतिसंवेदनशील वृक्ष प्रजातियों जैसे क्लोरोक्सिलॉन स्विटेनिया का रोपण किया है। इसके अलावा जामखानी कोयला खदानों (सुदंरगढ़, ओडिशा) के करीब पहली बार अनूठी मियावाकी पद्धति के जरिए गहन वनीकरण शुरु किया गया है। फलस्वरूप यहां 8000 से अधिक वृक्षों का आत्मनिर्भर समूह पनपेगा। इनमें अनेक फलदार प्रजातियां होंगी। विभिन्न पहले के माध्यम से कंपनी सतत विकास लक्ष्य 13-क्लाईमेट एक्शन और 15-लाईफ ऑन लैंड की प्राप्ति हेतु काम कर रही है।

वेदांता एल्यूमिनियम ने पारिस्थितिक प्रयासों को तेज करने के लिए अपने सभी प्रचालनों में व्यापक जैव विविधता प्रबंधन योजना (बीएमपी) को लागू किया है। बीएमपी कंपनी के संयंत्रों के करीब जैव विविधता के संरक्षण व संवर्धन का रोडमैप है। सभी क्षेत्रों में व्यापक जैव विविधता संरक्षण अध्ययन भी किए गए हैं ताकि वर्ष 2030 तक जैव विविधता पर नेट पॉज़िटिव इम्पैक्ट (एनपीआई) हासिल किया जा सके। बीएमपी की वृद्धि के लिए कंपनी ने प्रतिष्ठित पर्यावरणीय परामर्शक फर्म ईआरएम इंडिया के साथ साझेदारी की है।

पहल के महत्व पर बात करते हुए वेदांता एल्यूमिनियम के सीईओ श्री जॉन स्लेवन ने कहा कि वेदांता एल्यूमिनियम में सस्टेनेबिलिटी संबंधी विभिन्न पहल हमारे पर्यावरण को बेहतर बनाने के प्रयासों को दर्शाता है। हमारी कोशिशें पृथ्वी को सस्टेनेबल बनाने की स्पष्ट सोच समेटे हुए हैं। हम अपने प्रचालन में जैव विविधता संरक्षण की महत्वपूर्ण भूमिका को समझते हैं इसलिए पर्यावरणीय तौर पर जागरुक विधियों पर लक्ष्य करते हैं ताकि भावी पीढ़ियों के लिए इस धरती को सुरक्षित रख सकें। हम अपने संयंत्र परिसर के

भीतर व बाहर भी प्रयासरत रहते हैं और उस विविधतापूर्ण ईकोसिस्टम का कल्याण सुनिश्चित करते हैं जिसका एक हिस्सा हम भी हैं।

अंतरराष्ट्रीय वन दिवस के मौके पर कंपनी ने स्थानीय जैव विविधता के संरक्षण हेतु अपने कर्मचारियों व समुदाय के लोगों को जागरुक बनाने के उद्देश्य से कई कार्यक्रम आयोजित किए। इनमें झारसुगुडा, ओडिशा के प्रभागीय वन अधिकारियों के सहयोग से स्कूली विद्यार्थियों के लिए ’वन एवं नवाचारः बेहतर दुनिया हेतु नए समाधान’ विषय पर जागरुकता सत्र का आयोजन भी शामिल थे।

कोरबा में बालको ने अपनी टाउनशिप में फलदार वृक्षों के बगीचे लगाए हैं जिनमें इमली, आम, अमरूद, शरीफा व जामुन के लगभग 200 पेड़ हैं। कंपनी की पहल ’मोर जल, मोर माटी’ के अंतर्गत कंपनी ने आसपास के समुदायों में आम के 11 बगीचे लगाए हैं जिनमें 2300 पेड़ हैं। वेदांता एग्रीकल्चर रिसोर्स सेंटर छोटे किसानों को तेजी से बढ़ने वाले दीमक-प्रतिरोधी फलवृक्ष लगाने की तकनीकी जानकारी देता है। इसके अलावा नजदीकी जंगलों व झरनों के पास गहन सफाई अभियान चलाया गया।

लांजीगढ़, ओडिशा स्थित वेदांता एल्यूमिनियम की विश्व स्तरीय एल्यूमिना रिफाइनरी में समुदाय के लोगों को फलों के 200 से अधिक पौधे बांटे गए। कंपनी की खनन इकाई में कर्मचारियों ने एक फोटोग्राफी प्रतियोगिता में भाग लिया जिसका लक्ष्य था अपने आसपास प्राकृतिक जगत की तस्वीरें लेना। इनके साथ ही प्रकृति पर वृत्तचित्रों की स्क्रीनिंग की गई और स्थानीय समुदायों की सक्रिय सहभागिता से वृक्षारोपण अभियान चलाया गया।

About The Author

28 thoughts on “अंतरराष्‍ट्रीय वन दिवसः वेदांता एल्यूमिनियम अपने प्रचालन क्षेत्रों में करेगा बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण

  1. Hi, i think that i saw you visited my site so i came to “return the favor”.I am trying to
    find things to improve my website!I suppose its ok to use some of your
    ideas!!

  2. Superb blog you have here but I was curious about if you knew of any community forums that
    cover the same topics discussed here? I’d really love to be a part of online community where I can get advice from other experienced individuals that share the same interest.
    If you have any recommendations, please let me
    know. Thanks a lot!

  3. Have you ever thought about including a little bit more than just your articles?
    I mean, what you say is fundamental and all. However think of if you
    added some great visuals or video clips to give your posts more, “pop”!
    Your content is excellent but with images and videos, this website could certainly be one of the
    greatest in its field. Terrific blog!

  4. I am curious to find out what blog platform you are utilizing?
    I’m having some minor security problems with my latest blog and
    I would like to find something more safeguarded.
    Do you have any recommendations?

  5. I got this website from my buddy who shared with me regarding this site and at the moment this time I am visiting this
    web page and reading very informative content here.

  6. Hey there! I’ve been reading your blog for a while now and finally got the courage to
    go ahead and give you a shout out from Atascocita Tx! Just
    wanted to mention keep up the great work!

  7. Hey I am so excited I found your blog, I really found
    you by accident, while I was browsing on Askjeeve for something else,
    Nonetheless I am here now and would just like to say thank
    you for a marvelous post and a all round exciting blog (I also love the theme/design), I don’t have
    time to go through it all at the minute but I have saved it and also included your RSS feeds, so when I
    have time I will be back to read a lot more, Please do keep up the excellent
    work.

  8. My family members every time say that I am wasting my time here at net, however I know I am
    getting knowledge all the time by reading thes good articles or reviews.

  9. Hey I know this is off topic but I was wondering if you knew of any widgets I could add
    to my blog that automatically tweet my newest twitter updates.
    I’ve been looking for a plug-in like this for quite some time
    and was hoping maybe you would have some experience with
    something like this. Please let me know if you run into anything.
    I truly enjoy reading your blog and I look forward to your new updates.

  10. Hi there, i read your blog from time to time and i own a similar one and i was
    just curious if you get a lot of spam remarks? If so how do you prevent it, any plugin or anything you can suggest?

    I get so much lately it’s driving me mad so any help is very much appreciated.

  11. It’s really a great and helpful piece of info. I am satisfied that
    you just shared this helpful information with
    us. Please stay us up to date like this. Thank you for sharing.

  12. Howdy! I understand this is kind of off-topic however I needed to ask.
    Does operating a well-established website such as yours require a large amount of work?
    I’m completely new to running a blog but I do write
    in my diary daily. I’d like to start a blog so I will be able to share my own experience and feelings online.

    Please let me know if you have any recommendations or tips for
    new aspiring blog owners. Thankyou!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

रायगढ़ में पुरानी रंजिश में डिप्टी रेंजर संजय तिवारी (53) को बोलेरो सवार ने कुचलकर मार डाला। बाइक पर जा रहे संजय को देखकर आरोपी ने बोलेरो को मोड़कर पीछा किया। फिर कृषि उपज मंडी के पास बाइक को टक्कर मार दी, जिससे संजय रोड पर गिर गया। साइड ग्लास से संजय को देखा तो उसे ज्यादा चोंटे नहीं आई थी, तो गाड़ी बैक कर फिर से ठोकर मारी। इससे संजय तिवारी के सिर, माथे में गंभीर चोटें आई। गुरुवार दोपहर 3 बजे की इस घटना के बाद राहगीरों ने उन्हें मजयगढ़ पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्या को हादसा दिखाने की कोशिश की, लेकिन साजिश नाकाम रही। आरोपी को गिरफ्तार कर फौरन सिविल अस्पताल धरलिया गया है।