भुवन वर्मा, बिलासपुर 31 जनवरी 2020

जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 1 बिलासपुर से स्मृति त्रिलोक श्रीवास की जबर्दस्त जीत ..

त्रिलोक श्रीवास के नेतृत्व में पांचवीं बार जीत

जिला पंचायत बिलासपुर क्षेत्र क्रमांक 1 के प्रतिष्ठा पूर्व चुनाव में . श्रीमती स्थिति त्रिलोक श्रीवास ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है विदित हो कि जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 1 से भाजपा समर्थित उम्मीदवार श्रीमती अनुसूया जागरण कश्यप थी एवं कांग्रेस के ही सुनीता सत्यन कौशिक भी चुनाव मैदान में थी अन्य तीन उम्मीदवार भी अपना भाग्य आजमा रहे थे इसमें त्रिलोक श्रीवास भी कांग्रेस पार्टी की नेत्री हैं एवं कांग्रेस के प्रति प्रतिबद्ध हैं अनुसूया जागरण कश्यप दूसरे स्थान पर रही है इन्हें स्मृति त्रिलोक ने लगभग 3000 वोटों से परास्त किया है, यह चुनाव प्रतिष्ठा पूर्ण इसलिए था, क्योंकि भाजपा समर्थित उम्मीदवार को जिताने के लिए क्षेत्रीय विधायक रजनीश सिंह भाजपा नेता विक्रम सिंह एवं उनकी पूरी टीम ने घर-घर जनसंपर्क किया था, सुनीता सत्येंद्र कौशिक के पक्ष में पूर्व विधायक चंद्र प्रकाश बाजपेई,रमेश कौशिक, भुनेश्वर यादव,राजेंद्र साहू, अनिल टाह झगर सूर्यवंशी जुटे हुए थे.. इस सब के बाद भी त्रिलोक श्रीवास की धर्मपत्नी की बड़ी जीत त्रिलोक श्रीवास की जमीनी पकड़,. समर्पित ऊर्जावान कार्यकर्ताओं की टीम और बेलतरा विधानसभा में मजबूत जनाधार को साबित करता है..

त्रिलोक श्रीवास के मार्गदर्शन में पांचवीं बार जीत

त्रिलोक श्रीवास के मार्गदर्शन में उनके परिवार ने पांचवीं बार जीत दर्ज की है विदित हो कि अभी संपन्न नगर निगम की प्रतिष्ठा पूर्ण चुनाव में त्रिलोक श्रीवास की भाई बहू योगिता आनंद श्रीवास पार्षद का चुनाव जीता पिछले पंचायत चुनाव में त्रिलोक की बहू जिला पंचायत सदस्य पत्नी जनपद चुनाव जीती थी 2010 में त्रिलोक स्वयं जनपद सदस्य और पत्नी सरपंच 2005 में इनके पिताजी उप सरपंच और . समर्थित जनपद सदस्य सरपंच के चुनाव जीते ऐसे करके त्रिलोक श्रीवास के मार्गदर्शन में स्थानीय निकाय के चुनाव में यह पांचवीं जीत है..

स्मृति की बिल्हा क्रमांक एक में भारी मतों के अंतर से जीत, दिग्गजों के बीच साबित किया जनाधार

बिलासपुर। जिला पंचायत चुनाव आज घोषित 10 क्षेत्रों के चुनाव में क्रमांक एक से कांग्रेस नेता त्रिलोक श्रीवास की पत्नी स्मृति श्रीवास ने भारी अंतर से जीत हासिल की है। नतीजे के बाद श्रीवास ने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए उनकी दावेदारी रहेगी पर फैसला पार्टी के हाथ में है। उनका निर्देश ही मान्य होगा।

क्रमांक एक में भाजपा समर्थित प्रत्याशी अनुसुईया जागरण कश्यप और कांग्रेस से ही जुड़ी सुनीता सत्यन कौशिक भी मैदान में थीं। इसके अलावा तीन अन्य उम्मीदवार भी मैदान में थे। भाजपा प्रत्याशी अनुसुईया दूसरे स्थान पर रहीं। इन्हें स्मृति श्रीवास ने तीन हजार से अधिक मतों से परास्त किया है। भाजपा समर्थित उम्मीदवार को जिताने के लिए विधायक रजनीश सिंह व भाजपा नेता विक्रम सिंह और उनकी टीम ने सघन जनसम्पर्क किया था। सुनीता कश्यप के पक्ष में पूर्व विधायक चंद्र प्रकाश बाजपेयी, रमेश  कौशिक, भुनेश्वर यादव, राजेन्द्र साहू, अनिल टाह, आदि जुटे हुए थे। इन सबके बीच त्रिलोक श्रीवास ने इस सीट पर अपनी पकड़ साबित की है।

हाल ही में हुए नगर-निगम चुनाव में त्रिलोक श्रीवास के छोटे भाई आनंद श्रीवास की पत्नी योगिता श्रीवास ने पार्षद चुनाव जीता। त्रिलोक श्रीवास को बीते कई चुनावों में जीत हासिल हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.