आरक्षण संबंधी निर्णय के उपरांत राज्य में सभी प्रकार की भर्तियों एवं परीक्षा परिणामों पर अनिश्चित कालीन रोक : प्रतियोगी छात्रों का भविष्य अंधकारमय

भुवन वर्मा बिलासपुर 28 अक्टूबर 2022

बिलासपुर । माननीय उच्च न्यायालय द्वारा दिनांक 19-09-22 को दिए गए आरक्षण संबंधी निर्णय के उपरांत राज्य में सभी प्रकार ‘की भर्तियों एवं परीक्षा परिणामों पर अनिश्चित कालीन रोक लग गई है। जिसके कारण छात्रों का भविष्य अंधकार मय प्रतीत हो रहा है। वर्तमान में सभी प्रतियोगी छात्र तनाव महसूस कर रहे हैं।

राज्य सरकार क्वांटिफाईएबल डाटा आयोग के रिपोर्ट आने के बाद सभी वर्गो को उनका हक दिलाते हुए नए आरक्षण रोस्टर निर्माण की बात कर रही है। चूंकि क्वांटिफाईएबल डाटा आयोग के रिपोर्ट आने में अभी 2 माह है, और रिपोर्ट आने के बाद ही नए रोस्टर बनाने की प्रक्रिया आगे बढ़ पाएगी।

तो क्या 3 महीने तक कोई भर्ती नही होगी?

हाई कोर्ट के वकीलों एवं आरक्षण के जानकारो का कहना है कि राज्य में अभी भी 2012 से पूर्व का 50% सीमा का आरक्षण रोस्टर है। जिससे भर्ती लिया जा सकता है। हाल ही में दंत चिकित्सा स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम, बी एस सी कृषि उद्यानिकी पाठ्यक्रम, एम बी बी एस पाठ्यक्रम में प्रवेश हेतु पुराने 50% आरक्षण रोस्टर पर सीट आबंटन का नोटिफिकेशन निकाला तो गया किंतु सरकार के द्वारा उसे भी स्थगित कर दिया गया।

अतः समस्त छात्र समूह की सरकार से अपील है कि पुराने रोस्टर से भर्ती प्रक्रिया जारी रखे।छात्र समूहों द्वारा माननीय मुख्यमंत्री को पत्र लिख कर इस विषय में संज्ञान लेने का आग्रह करते हुए समस्त छात्रों के हित में निर्णय लेने, राज्य में भर्ती प्रक्रिया शीघ्र प्रारंभ करने एवं परीक्षा परिणामों को शीघ्र जारी करने की अपील की गई है।

परिक्षार्थियों का कहना है कि उन्हें सिर्फ भर्ती परीक्षा होने और समय पर रिजल्ट जारी होने से मतलब है, 50% के अंदर किस वर्ग को कितना आरक्षण मिल रहा ये मायने नही रखता।

राज्य के सभी विभाग, राज्य लोक सेवा आयोग एवं सभी विश्वविद्यालयों को पुराने 50% आरक्षण रोस्टर से भर्ती लेने देवे, प्रक्रिया चलने देवे। इसके साथ ही सरकार नए रोस्टर पर भी समांतर काम करे। इसी में सभी वर्गो का हित समाहित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.