क्या बिलासपुर के सीवरेज और रायपुर के स्काईवॉक की अंत्येष्ठि कर देनी चाहिये ?

261

भुवन वर्मा, बिलासपुर 17 जनवरी 2020

सीवरेज पर खर्च हो चुके 622 करोड़ और रायपुर के स्काईवॉक पर खर्च हुए 45 करोड़ रुपए गए पानी मे

कौन गारंटी लेगा इन परियोजनाओ की सफलता की।।

बिलासपुर। बिलासपुर में भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल के दस बेशकीमती साल और राज्य के 622 करोड़ रुपये बर्बाद कर चुकी सीवरेज परियोजना यहां के लोगों को अभी भी चिढ़ा रही है। जिस परियोजना से शहर की गंदगी और धुल धक्कड़ व मच्छर खत्म करने की लोगों ने उम्मीद लगा रखी थी। उसने पूरे दस सालों तक शहर की नाक में दम कर दिया। 622 करोड़ रुपये खपाने के बाद भी अधूरी पड़ी इस सीवरेज परियोजना को बिलासपुर के लोगों ने अपना खलनायक मान लिया। और इस परियोजना ने सड़कों के गड्ढों और धूल धक्कड़ व परेशानी के रूप में शहर को जो पीड़ा दी उसका बदला शहर वालों ने यह परियोजना लाने वाले अमर अग्रवाल को चुनाव में हराकर पूरा किया। कमोबेश यही हाल रायपुर में 45 करोड़ रुपये बर्बाद करने के बाद भी अधूरी पड़ी स्काईवॉक परियोजना का है।

रायपुर में भी लोगो ने उस शख्स को चुनाव में हरा दिया जिसने स्काईवॉक(आसमान में चलना)सरीखी बिना मतलब की योजना रायपुर के सीने पर लादा था। बहरहाल बिलासपुर में सीवरेज और रायपुर में स्काईवॉक लाने वाले भाजपा नेता तो अपनी सरकार समेत औंधे मुंह हार कर घर बेठ गए हैं । लेकिन अंग्रेज चले गए पर औलाद छोड़ गए कि तर्ज पर बिलासपुर में सीवरेज और रायपुर में स्काईवॉक का भूत अभी भी हमारे सीने पर मूंग दल रहा है।

रायपुर में तो सरकार ने वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा, विकास उपाध्याय और कुलदीप जुनेजा समेत अनेक बड़े टेक्निकल अधिकारियों की एक कमेटी बनाकर उसे इस बात पर राय देने को कहा गया है कि सरकारी खजाने के 45 करोड़ रुपये लील चुके स्काईवॉक का क्या किया जाय ? उसे तोड़कर उसके मलबे को कही कबाड़ में डाला या….? बहरहाल श्रीमान सत्यनारायण शर्मा की अगुवाई में बनी कमेटी कुछ महीनों से इस पर माथा पच्ची ही कर रही है।
अब जरा प्रदेश से दफन हो चुकी भाजपा सरकार के लाडले नगरीय प्रशासन मंत्री की “गई गुजरी” सीवरेज परियोजना की बात करें जो खुद तो बिलासपुर वालो की नजरों में खलनायक बनी ही साथ मे अपने जन्म दाता नेता की राजनीति का भी भट्ठा बिठा दिया। अब इसमें सीवरेज परियोजना की भी कोई गलतीं नहीं थी। नगरनिगम और शहर के हुक्मरान ने बिलासपुरवालों और तेजी से काम की बजाय सीवरेज के ठेकेदार को अधिक तवज्जो दी। उसे बिना योजना को जांचे परखे उसे रोकड़े पे रोकड़ा देते गए। और वो शहर की सड़कों गलियों को खोदता रहा। अब बर्बाद सीवरेज किसी काम की नही रही। वही कुछ लोग इस मुगालते में है कि सीवरेज पर कुछ करोड़ रुपये और उड़ा देने से यह काम करने लगेगी। वही शहर के लोगो का कहना है कि सीवरेज का काम “मेन्युफेक्चरिंग डिफेक्ट” का शिकार हो गया है। इसलिए अब इसे अच्छी तरह जांच लेना चाहिए कि कुछ उठापटक और दो चार सौ करोड़ रुपये खर्च करने के बाद भी यह उपयोगी हो पाएगी या नहीं। इसकी जांच परख और विशेषग्यो से सलाह मशविरे के बाद ही इस पर सरकारी खजाने की रकम बर्बाद करनी चाहिए। अन्यथा , रायपुर के स्काईवॉक और बिलासपुर की सीवरेज परियोजना के कफ़न दफन के लिए जी कड़ा कर लेना चाहिये।

लेखक – शशि कोंन्हेर अंचल के वरिष्ठ पत्रकार

About The Author

261 thoughts on “क्या बिलासपुर के सीवरेज और रायपुर के स्काईवॉक की अंत्येष्ठि कर देनी चाहिये ?

  1. I’m the owner of JustCBD Store label (justcbdstore.com) and I am currently trying to grow my wholesale side of company. I really hope that someone at targetdomain give me some advice . I thought that the very best way to accomplish this would be to talk to vape stores and cbd retail stores. I was really hoping if anybody could recommend a reliable website where I can purchase Vape Shop B2B Data I am currently taking a look at creativebeartech.com, theeliquidboutique.co.uk and wowitloveithaveit.com. Unsure which one would be the most ideal option and would appreciate any assistance on this. Or would it be much simpler for me to scrape my own leads? Ideas?

  2. I’d like to thank you for the efforts you have put in penning this blog. I really hope to see the same high-grade content from you in the future as well. In truth, your creative writing abilities has inspired me to get my own, personal website now 😉

  3. I would like to thank you for the efforts you have put in penning this blog. I am hoping to see the same high-grade blog posts by you in the future as well. In fact, your creative writing abilities has inspired me to get my very own blog now 😉

  4. I absolutely love your site.. Excellent colors & theme. Did you build this website yourself? Please reply back as I’m wanting to create my very own site and would love to learn where you got this from or exactly what the theme is called. Many thanks!

  5. Hi, I believe your web site might be having web browser compatibility issues. When I take a look at your web site in Safari, it looks fine however, if opening in I.E., it has some overlapping issues. I merely wanted to provide you with a quick heads up! Besides that, fantastic website!

  6. An outstanding share! I’ve just forwarded this onto a friend who has been conducting a little research on this. And he in fact bought me lunch because I stumbled upon it for him… lol. So allow me to reword this…. Thanks for the meal!! But yeah, thanks for spending time to discuss this issue here on your website.

  7. amoxicillin buy canada: [url=http://amoxicillins.com/#]amoxicillin 50 mg tablets[/url] buy amoxicillin online cheap

  8. amoxicillin online purchase: [url=http://amoxicillins.com/#]how much is amoxicillin[/url] amoxicillin 500mg capsules

  9. amoxicillin cephalexin: [url=http://amoxicillins.com/#]amoxicillin 750 mg price[/url] price of amoxicillin without insurance

  10. buy amoxicillin 500mg capsules uk: [url=http://amoxicillins.com/#]amoxicillin 50 mg tablets[/url] how to get amoxicillin

  11. buy amoxicillin online no prescription: [url=http://amoxicillins.com/#]amoxicillin 500 mg for sale[/url] amoxicillin 500mg capsule cost

  12. [url=https://propecia1st.science/#]cost of propecia without dr prescription[/url] buying propecia no prescription

  13. can i buy zithromax over the counter [url=https://azithromycin.men/#]zithromax 500 mg lowest price pharmacy online[/url] where to get zithromax over the counter

  14. Les raisons les plus courantes de l’infidélité entre couples sont l’infidélité et le manque de confiance. À une époque sans téléphones portables ni Internet, les problèmes de méfiance et de déloyauté étaient moins problématiques qu’ils ne le sont aujourd’hui.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *